कई सारे सुर्वे के बाद पूरे दुनिया के साथ साथ भारत के भी कई सारे सूची सामने आया है , जिससे यह पता चलता है की एक देश की हालत किस तरह है

ग्लोबल जेंडर गैप इंडेक्स 2022 . में कुल 146 देशों में भारत 135वें स्थान पर है

"Health & Survival " उप-सूचकांक में दुनिया में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाला, जहां यह 146 वें स्थान पर है।

ग्लोबल जेंडर रिपोर्ट 2022, जिसमें जेंडर गैप इंडेक्स शामिल है, का कहना है कि अब लैंगिक समानता तक पहुंचने में 132 साल लगेंगे, 2021 के बाद से यह अंतर केवल चार साल कम होगा।

ग्लोबल जेंडर गैप इंडेक्स चार प्रमुख लैंगिक समानता को निर्भर करता है - आर्थिक भागीदारी और अवसर, शैक्षिक प्राप्ति, स्वास्थ्य और अस्तित्व, और राजनीतिक सशक्तिकरण

भारत स्वास्थ्य और अस्तित्व में 146, आर्थिक भागीदारी और अवसर में 143, शैक्षिक प्राप्ति में 107 और राजनीतिक सशक्तिकरण में 48 वें स्थान पर है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत का 0.629 का स्कोर पिछले 16 वर्षों में उसका सातवां उच्चतम स्कोर था।